अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2011

देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं


किसने हक़ दिया
तुम्हें हंसने का
अपनी मनपसंद
ज़िन्दगी जीने का
किसने हक़ दिया
तुम्हें मरने का
ज़िन्दगी से ऊब कर
ज़िन्दा लाशें
सिर्फ सड़ने के लिए
होती हैं
उनका वजूद
होता ही कब है
जो कुछ पल
मुस्कुरा सकें
उनका वजूद होता
ही कब है
जो खुद पर इठला सकें
प्रायोगिक वस्तुएं
निजी अस्तित्व नहीं रखतीं
उन्हें सिर्फ
इस्तेमाल किया
जाता है
अधिकार सिर्फ
मालिक का होता है
किरायेदार तो सिर्फ
ज़िन्दगी भर
किराया देते हैं
तीलियाँ तो सिर्फ
जलने के लिए
होती हैं
जिनसे सिर्फ
रौशनी की जाती है
तीलियों को
सहेजा नहीं जाता
सिर्फ उपयोग किया
जाता है
आखिर तीलियों की
इससे आगे
हैसियत ही क्या है
चलती फिरती
ज़िन्दा लाशें
मुस्कुराने को मजबूर
इज्जत बचाने को मजबूर
अदृश्य बेड़ियों में जकड़ी
अपने वजूद से लड़तीं
समाज की बलि वेदी पर
खुद को होम करतीं
पति और बच्चों
की चाहतों पर
कुर्बान होतीं
अपनी इच्छाओं
आकांक्षाओं को
ज़हर के घूँट पिलातीं
बेशक मिट जायें 

मगर
कुछ वजूदों की 

देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं

36 टिप्‍पणियां:

योगेन्द्र पाल ने कहा…

सुन्दर पंक्तियाँ हैं

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

स्त्रियों की दुर्दशा पर गहन रचना ...बस तीलियों की तरह इस्तमाल होती हैं ..पर ये ऐसी तीलियां हैं जो बार बार प्रयोग की जा सकती हैं ...वजूद कुछ भी नहीं ..

सदा ने कहा…

कुछ वजूदों की
देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं ...

गहन भावों के साथ सशक्‍त रचना ।

: केवल राम : ने कहा…

तीलियाँ तो सिर्फ
जलने के लिए
होती हैं
जिनसे सिर्फ
रौशनी की जाती है
तीलियों को
सहेजा नहीं जाता
सिर्फ उपयोग किया
जाता है

आज इंसान की हालत इन तीलियों से भी बदतर है ..उसकी तो इतनी भी कीमत नहीं ..बस जब दिल किया मार दिया उसकी संवेदनाओं को ठेस पहुंचा दी ..वह शरीर तो है लेकिन कभी भी आत्मिक स्तर पर उसे नहीं समझा जाता ...आपकी रचना विविध भावों का संगम है ....आपका आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

देह के आगे आशायें हैं।

निशांत ने कहा…

acchi rachna..

vazood to ekta se milta hai

10 tilli ko jalaayenge to khud hi jal jaayenge ya badal jaayenge..

ekta me bal hai..

vazood sab ka rahta hai....
par waqt kisi ka nahi...

अमि'अज़ीम' ने कहा…

Bhavatmak...

इमरान अंसारी ने कहा…

कम्पित कर देने वाली पोस्ट है यह......ये बात अब भी काफी हद तक सही है |

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

बहुत गहरी बात की हे वन्दना जी आपने ...शुक्रिया

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

कविता कम शब्दों में बहुत कुछ कहने की कला है और उसका सबसे बेहतरीन उदहारण है यह कविता जिसमे नारी के मन की पूरी बात, बस कुछ ही शब्दों में कह दी गई है... आखिरी पंक्तियाँ पूरी कविता का निचोड़ कह रही हैं...
"बेशक मिट जायें
कुछ वजूदों की
देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं".... आपकी सबसे अधिक प्रभावित कर देने वाली कविता !

चैन सिंह शेखावत ने कहा…

कुछ वजूदों की
देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं

hamare waqt ki kadvi sachhai h yeh...
bahut khoob..

Patali-The-Village ने कहा…

गहन भावों के साथ सशक्‍त रचना ।

रचना दीक्षित ने कहा…

"कुछ बजूदों की
देह के आगे गणनाएं नहीं की जाती."

कितना सच कहा है. स्त्रियों कि स्थिति का सही चित्रण किया है. गंभीर विषय को उठाने के लिए बधाई.

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

कल "शनिवासरीय चर्चा" में आपके ब्लाग की "स्पेशल काव्यमयी चर्चा" की जा रही है...आप आये और अपने सुंदर पोस्टों की सुंदर काव्यमयी चर्चा देखे और अपने सुझावों से अवगत कराये......at http://charchamanch.blogspot.com/
(30.04.2011)

Sunil Kumar ने कहा…

कुछ वजूदों की
देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं ..
स्त्रियों की स्थिति समाज में किस हाल में है झकझोरती हुई रचना , बधाई

ZEAL ने कहा…

बेजोड़ , और बेहतरीन रचना वंदना जी

zindagi-uniquewoman.blogspot.com ने कहा…

behtrin prastuti...

राज भाटिय़ा ने कहा…

अति सुंदर रचना...

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

कुछ वजूदों की
देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं ...

सच को लिए मर्मस्पर्शी चित्रण

हल्ला बोल ने कहा…

समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

बेहतरीन तुलना तीलियों से.

उत्तम रचना...

Dr Varsha Singh ने कहा…

तीलियाँ तो सिर्फ
जलने के लिए
होती हैं
जिनसे सिर्फ
रौशनी की जाती है
तीलियों को
सहेजा नहीं जाता
सिर्फ उपयोग किया
जाता है

नारी की दशा का वैचारिक प्रस्तुतिकरण...
हार्दिक शुभकामनायें।

वाणी गीत ने कहा…

कविता की वितृष्णा , नफरतें , उदासियाँ झकझोरती हैं , मगर कुछ अंशों में यह सच्चाई भी है ही ...
बार -बार जलाई जाने वाली ये तीलियाँ ...
नवीन बिम्ब ...
अधिसंख्य स्त्रियों की दशा पर अच्छी रचना !

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

दोस्तों, क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना.........
भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से (http://sach-ka-saamana.blogspot.com/2011/04/blog-post_29.html )

रंजना ने कहा…

उफ़....मारक....

रजनीश तिवारी ने कहा…

बहुत ही अच्छी मर्मस्पर्शी रचना , यथार्थ का सटीक चित्रण । बधाई ..

विजय रंजन ने कहा…

Vandana Ji..hamein yah sthiti badalni hogi...deh se neh ka koyi sambandh nahi...jab ham sthool se sookshm ki oar badhenge tabhi shayad apni samvednaon ko gadhenge...

aapne achha mudda uthaya hai...badhayee.

ज्योति सिंह ने कहा…

तीलियाँ तो सिर्फ
जलने के लिए
होती हैं
जिनसे सिर्फ
रौशनी की जाती है
तीलियों को
सहेजा नहीं जाता
सिर्फ उपयोग किया
जाता है
naari sab kuchh phir bhi vajood nahi .......ati sundar ,prantu vicharniye bhi .

mridula pradhan ने कहा…

bahut achchi lagi.....

ZEAL ने कहा…

बहुत ही मार्मिक लिखा है वंदना जी ।

sm ने कहा…

this is the story of every women

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अधिकार सिर्फ
मालिक का होता है
किरायेदार तो सिर्फ
ज़िन्दगी भर
किराया देते हैं
--
बहुत ही प्रेरणादायी रचना!
वाकई में देह से आगे गणनाएं नहीं की जातीं!

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

बहुत ही प्रभावशाली रचना .....

बड़ी बेबाकी से यथार्थ का नग्न चित्र प्रस्तुत करती आपकी कविता ..आज के सभ्य समाज को झकझोर कर रख देने में सक्षम है |

अभिव्यक्ति ......सशक्त

Rajesh Kumari ने कहा…

bahut gahan bhaavon ko darshaati hui rachna.

***Punam*** ने कहा…

कुछ वजूदों कि देह से आगे.........
हमारे सभ्य समाज में ही न जाने कितने उदाहरण मिल जायेंगे..

सार्थक रचना...

Amrita Tanmay ने कहा…

आप की भावाभिव्यक्ति ज़बर्दस्त है